Top Menu

Category Archives Uncategorized

जीवन में हम कभी ना कभी किसी और से प्रभावित होते रहे हैं। कभी ये प्रेरणा हमें सही दिशा भी देती है और कभी ग़लत राह पर भी मोड़ देती है। इसलिए जीवन को आसान या कठिन बनाना हमारे नज़रिए पर निर्भर करता है। आप जीवन में बहुत कुछ कर सकते हैं इतना जितना आप सोच भी नहीं सकते। गीता…

मेरे विचार से समस्त विश्व में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होता जो अपने जीवन में सफल नहीं होना चाहता। सब सुखी जीवन की ही कामना करते है। हम ही नहीं हमारे शुभेच्छु अर्थात हमारे माता-पिता, शिक्षक, भाई, बंधु, सखा सभी हमें सुखी रहने का आशीर्वाद व शुभकामनाएँ देते हैं किंतु सुख व समृद्धि का माप दंड क्या है? क्या सबके…

देखो, फिर आया वसंत सरसों फूले दिग दिगन्त धानी चादर, पीली बहार अम्बर गूँजे, चली बयार, देखो फिर आया वसंत...बढ़ गई धरती की शोभा अनंत....। भारतवर्ष को षट्ऋतुओं का उपहार प्रकृति ने दिल खोलकर दिया है। वसंत ऋतु का नाम ही प्रकृति में आनेवाले सुखद बदलाव का प्रतीक है। सूखी टहनियों में निकलते नए हरे-हरे कोंपल। खेतों में लहलहाते सरसों…

जिसकी नज़्मों में अहसास इतनी नज़ाकत के साथ सिमट जाता हो कि जैसे चॉंदनी में छिपी आफताब की किरणें। जिसने ज़िंदगी के हर लम्हे को अपनी कायनात में सितारे सा पिरो लिया हो ताकि जब उसका ज़िक्र आए तो वो नज़्म बनकर उतर आए। जिसका बचपन मिट्टी की सौंधी ख़ुशबू से लबरेज हो और दिमाग़ के कोने में अपनी ख़ासी…

Powered By Indic IME
Close