Top Menu

Category Archives फ़्यूअल अभिनंदन

सुबह-सवेरे पाँच बजे चूड़ियों की खनक, खुरपी की छप्प-छप्प, कुदाली से मिट्टी के ढलों की टूटन, पौधों को जड़ों से उखाड़ने की आवाज़, फिर धरती पर झप-झप, सब कुछ एक लय - एक गति। कुछ ऐसा जो बहुत पुरानी यादों का पिटारा खोलता सा लगा। कुछ ऐसा धरती से जुड़ा संगीत जिसे सुनकर मन प्रफुल्लित हुआ। मैं झट से उठकर…

रॉयल एन्फ़ील्ड की धमक सुन मैं उछलकर फ़ुटपाथ पर चढ़ गयी। कनखियों से देखा तो studs का भारी हेलमेट उतरा और चमकीले काले बाल उसके कंधों पर बिखर गए, अद्भुत फ़िल्मी सीन था। तीखे नैन नक्शोंवाली नवयुवती कंधे पर पीछे बैग उछालकर सामने की बिल्डिंग में गुम हो गयी, और मैं उसकी मोबाइक ही देखकर भावुक हो उठी। अपनी पुरानी…

मैं हमेशा यही सोचता हूँ कि इस संसार को बदलने के लिए विचार आना और उसे निष्पादित करना एक व्यक्ति के बस की बात नहीं है, लेकिन उनका चेहरा मेरे ज़हन में बार -बार उभरता है और मुझे ग़लत सिद्ध करता है। वो सिद्ध करती हैं कि एक अकेला व्यक्ति अपने प्यार, दया और अथक परिश्रम से उस संसार को…

Powered By Indic IME
Close